Intezar me ab kisi ke jeena chhor diya humne
Tanha gam me ansu bahana chhor diya humne
Halat ne sikha diya hai ab mujhe jine ka salika
Kisi ka intezaar me palke bichna chhor diya humne

 

इंतज़ार में अब किसी के जीना छोड़ दिया हमने
तनहा गम में आंसू बहाना छोड़ दिया हमने
हालात ने सिखा दिया है अब मुझे जीने का सलीका
किसी का इंतज़ार में पलके बिछना छोड़ दिया हमने

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name *
Email *
Website