Jo haar ko svikar kar uske Baare me
Naye sire se ranniti bankar sochta hai
Vhi vyakti baad me jitne ka sukh bhi paata hai

जो हार को स्वीकार कर उसके बारे में
नए सिरे से रणनीति बनाकर सोचता है |
वही व्यक्ति बाद में जितने का सुख भी पाता है ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name *
Email *
Website