बिखरने दो होंठों पे हंसी के फुहारों को दोस्तों
प्रेम से बात कर लेने से जायदाद कम नहीं होती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name *
Email *
Website