न रुलाने वाले की कमी है

न ही रोने वाले की कमी है

जी रहा हूँ अब भी जिंदगी

पर शरीर तो लाश बनी है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name *
Email *
Website