Aakar anjaane me koi jindagi me
Aks mitane ki sajish ki thi meri
Yuhi para rha bikhre hue khi
Kisi ne koshish bhi na ki haal janane ki meri
Yuhi aakhri lamhe gujarata rha
Koi na aaya is jha mein mere liye
Jindagi ne bhi sath chor diya
Un chand lamho ke gujarne ke baad

आकर अनजाने में कोई जिंदगी में
अक्स मिटाने की साजिश की थी मेरी
युही पर रहा बिखरे हुए कहि
किसी ने कोशिश भी न की हाल जानने की मेरी
युही आखरी लमहे गुजरता रहा
कोई न आया इस जहाँ में मेरे लिए
जिंदगी ने भी साथ छोड़ दिया
उन चाँद लम्हो के गुजरने के बाद

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name *
Email *
Website